पंजाब की राजधानी कहाँ है?

क्या आपको पंजाब की कैपिटल क्या है और पंजाब की राजधानी का नाम के बारेमे जानकारी है, अगर नही तो इस article को अंत तक जरुर पढ़े।

यहाँ हम जानेंगे की Punjab Ki Rajdhani Kahan Hai और पंजाब जोकि भारत का एक जाना माना राज्य है। देश के सबसे छोटे राज्यों मे से एक होने के बावजूद भी पंजाब समृद्धि में आगे है। यह वह राज्य है जिसका पूरा इतिहास कुर्बानियों से भरा है, जिस पर पंजाब और हर पंजाबी को गर्व है। यहाँ आप गुजरात की राजधानी कहाँ है पढ़ सकते है। इतिहास उठा कर देखें तो पता चलता है पंजाबियों ने कम जनसंख्या में होने के बावजूद देश की आजादी की लड़ाई में 70% कुर्बानियां दी हैं।

यहां की सबसे बड़ी जनसंख्या सिख संप्रदाय मानने वालों की है। पंजाब के नाम पन और जाब शब्द मिलाकर हुआ है, पन का अर्थ है पांच और जाब का अर्थ है जल यानी ऐसा स्थान जहां पांच तरह का जल मिलता हो, और यह है भी क्योंकि यहां से पांच नदिया जाती है। ऐसा खूबसूरत प्रदेश की राजधानी भी काफी खूबसूरत है। आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे पंजाब की राजधानी कौन सी है के बारे में, इसलिए अंत तक जरूर बने रहे।

पंजाब की राजधानी क्या है?

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ है। पंजाब की राजधानी के बारे में क्या ही कहना, यह भारत के सबसे साफ, सुंदर और सुरक्षित शहरो में एक है। लेकिन यह पंजाब का दुर्भाग्य है कि उसे अपनी राजधानी को हरियाणा राज्य के साथ बाटना पड़ता है।

Punjab Ki Rajdhani Kahan Hai

जी हां, हम बात कर रहे है चंडीगढ़ शहर की, चंडीगढ़ शहर हर तरह अपने आप में एक अजूबा है। चाहे खूबसूरती को बाते करे, स्वच्छता की या फिर सुरक्षा की, सभी में यह शहर अव्वल है। अगर आपको ऑस्ट्रेलिया की राजधानी और अमेरिका की राजधानी कहाँ है जानना है तो इसे पढ़े।

ये भी पढ़े:-

१. झारखण्ड की राजधानी कहाँ है?
२. असम की राजधानी कहाँ है?
३. राजस्थान की राजधानी कहाँ है?

पंजाब की दूसरी राजधानी कहा थी?

बटवाते से पहले Punjab Ki Rajdhani लाहौर थी, लेकिन बटवारे के बाद लाहौर शहर पाकिस्तान में चला गया। अब समस्या आयी की नई राजधानी कहा बनाई जाए। इसके लिए एक शहर बसाना था, जिसका नाम चंडीगढ़ सोचा गया था। लेकिन जब चंडीगढ़ शहर बसा नहीं था, तब कुछ समय के लिए यहां की राजधानी शिमला थी। आईये पंजाब के बारेमे अधिक जानकारी इस टेबल से लेते हैं।

देशभारत
राजधानीचंडीगढ़
सबसे बड़ा शहरलुधियाना
जिलों23
क्षेत्र50,362 km2
जनसंख्या (2011)27,743,338
साक्षरता (2011)76.68%
राजभाषापंजाबी

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ से जुड़े विवाद।

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़, केवल पंजाब की ही राजधानी नही है, बल्कि पंजाब के साथ साथ यह हरियाणा राज्य की भी राजधानी है। इस मामले को समझने के लिए हमे जाना पड़ेगा आजादी की पहले की कहानी में। यहाँ आप उत्तर प्रदेश की राजधानी कहाँ है पढ़ सकते है।

आजादी के पहले पंजाब की राजधानी लाहौर हुआ करती थी। मगर सन् 1947 में भारत के स्वतंत्र होने के साथ भारत और पाकिस्तान के विभाजन के साथ लाहौर पाकिस्तान का हिस्सा बन गया। तब यह प्रश्न उठा की पंजाब की राजधानी किस शहर को बनाया जाए? 1948 में यह निर्णय लिया गया की चंडीगढ़ नाम का एक शहर बनाया जाएगा और यही पंजाब की राजधानी होगी।

कुछ समय के लिए पंजाब की राजधानी शिमला को बनाया गया। साल 1952 में चंडीगढ़ बन गया और तबसे लेकर साल 1966 तक चंडीगढ़ अकेले पंजाब की ही राजधानी था, मगर साल 1966 पंजाब से अलग हो कर में हरियाणा राज्य उत्पत्ति में आ गया। तभी चंडीगढ़ को आने वाले 10 सालो के लिए हरियाणा और पंजाब दोनो की राजधानी बना दिया गया। चंडीगढ़ से जुड़े विवाद के बारेमे अधिक जानकारी लेने से पहेले निचे दिए गये टेबल से पंजाब के बारेमे कुछ जानकारी पा लेते हैं।

सरकारपंजाब सरकार
गवर्नरबनवारीलाल पुरोहित
चीफ मिनिस्टरभगवंत मैं (आप)
लेजिस्लेचरएक सदनीय (117 सीटें)
पार्लियामेंट्री कोंस्टीटूएंसीलोक सभा (13 सीट्स) | राज्य सभा (7 सीट्स)
उच्च न्यायालयपंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय

अब राजधानी बनाने के लिए नया शहर बसाना कोई एक दिन का काम नही था। इस बटवारे के तहत चंडीगढ़ की सभी सरकारी संपत्ति को 60:40 के अनुपात में बाट दिया गया। 60% हिस्सा पंजाब में ज्यादा आबादी होने की वजह से गया और 40% आया हरियाणा के पास और तबसे लेकर आज तक पंजाब और हरियाणा एक ही राजधानी से काम चला रहे हैं।

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ से जुड़े कुछ अनोखे तथ्य।

  • चंडीगढ़ शहर में चंडी का अर्थ है, चंडी का किला यहां काली माता का एक खूबशूरत मंदिर है जोकि एक पर्यटन स्थल भी है, उन्हीं के नाम पर इस शहर का नाम चंडीगढ़ पड़ा।
  • जब भी भारत में सबसे व्यस्थित शहरों की बात आती है तो चंडीगढ़ का नाम सबसे पहले आता है क्योंकि स्वतंत्रता के बाद इसे सबसे फुल्ली प्लांड सिटी का दर्जा मिला हुआ है।
  • यह शहर अपनी शानदार वास्तुकला और डिजाइंस के लिए प्रसिद्ध है। यहां की संरचना किसी को भी आकर्षित कर सकती है।
  • रहने और सुरक्षा के लिहाज से चंडीगढ़ को भारत के सबसे अच्छे शहरों में से एक माना जाता है।
  • चंडीगढ़ शहर अलग अलग सेक्टर्स में बटा हुआ है, लेकिन कभी भी यहां 13 नंबर का सेक्टर नही बनाया गया। यहां की मान्यता के अनुसार 13 अंक को शुभ नही माना जाता।

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ के प्रमुख पर्यटन स्थल।

Punjab Ki Rajdhani Kya Hai Hindi Mein अधिक जानकारी पाने से पहले आप ये जनले की आखिर में पंजाब की क्या क्या प्रमुख पर्यटन स्थल है।

#1. फतेह बुर्ज

मोहाली में स्थित यह भारत की सबसे ऊंची मीनार है, जो लगभग 328 फीट यानी की 100 मीटर ऊंची है। यह ऐतिहासिक स्मारक सिख सिपाही बाबा बंदा सिंह बहादुर जी को समर्पित है, जिन्होंने मुघली कमांडर वजीर खां को सन 1710 में हराया था।

#2. एलांटे मॉल

यह चंडीगढ़ का सबसे बड़ा और साथ ही साथ भारत के सबसे बड़े शॉपिंग मॉल में एक माना जाता है, यह शानदार शॉपिंग मॉल 20 एकड़ के बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है।

#3. गवर्नमेंट म्यूजियम एंड आर्ट गैलरी

चंडीगढ़ के सेक्टर 10 में स्थित यह म्यूजियम पर्यटकों के बीच में काफी लोकप्रिय है, जहां पर गंधारा के पत्थरों की मूर्तियां, पाषाण कलाकृतियां, और अन्य शिल्प कृतियों को संजो के रखा गया है। यहां पर एक पुस्तकालय भी मौजूद है जहां पर 6000 से भी अधिक पुस्तकें रखी हुई हैं।

#4. पिंजौर गार्डन

चंडीगढ़ से तकरीबन 22 किलोमीटर की दूरी पर स्थित इस खूबसूरत उद्यान का निर्माण सत्रहवी शताब्दी में पटियाला राजवंश के राजा यादवेंद्र सिंह ने करवाया था, इसीलिए यह जगह यादवेंद्र गार्डन के नाम से भी जानी जाती है।

#5. छतबीर जू

यह शानदार जगह चंडीगढ़ पटियाला मार्ग पर स्थित है, इसे पार्क को उत्तर भारत के सबसे बड़े जियोलॉजिकल पार्क रूप में देखा जाता है।

चंडीगढ़ पंजाब की राजधानी कब बनी?

चंडीगढ़ पंजाब की राजधानी साल 1953 में बनी।

क्या चंडीगढ़ के अलावा पंजाब की राजधानी कोई और भी थी?

जी हां, लाहौर और शिमला।

चंडीगढ़ की खासियत क्या है?

चंडीगढ़ अपनी स्वच्छता और सुरक्षा के लिए काफी जाना जाता है।

चंडीगढ़ में पर्यटन के सबसे प्रसिद्ध कौन सा स्थान है?

फतेह बुर्ज।

निष्कर्ष

तो दोस्तो आज के इस आर्टिकल में आपने जाना पंजाब की राजधानी कहाँ है। यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर करना बिलकुल भी न भूले, जिससे उन्हें भी चंडीगढ़ के बारे में पता चल सके।

Leave a Comment