Share Market की जानकारी हिंदी में

अगर आप शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हें और आप शेयर मार्केट की जानकारी पना चाहते है तो इस लेख को ज़रूर पढ़े।

यहाँ हम Share Market Ki Jankari के बारेमे जानेंगे। ऐसा कहा जाता है कि किसी व्यक्ति को अगर कम समय में ज्यादा पैसे कमाने हैं या फिर वह अपने पैसे को कम समय में ही बढ़ते हुए देखना चाहता है, तो उसे शेयर मार्केट यानी कि शेयर बाजार में अपने पैसे इन्वेस्ट करना चाहिए।

जब कोई व्यक्ति शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करने के बारे में सोचता है तभी उसे यह पता चलता है कि शेयर मार्केट में जोखिम भी होता है जिसके कारण व्यक्ति घबराकर शेयर मार्केट में इन्वेस्ट नहीं करता है। तो यहाँ आप शेयर मार्केट की जानकरी हिंदी में पा सकते हें।

परंतु अगर कोई व्यक्ति शेयर मार्केट के बारे में पूरी जानकारी रखके इसके अंदर इन्वेस्टमेंट करता है,तो वह शेयर मार्केट से बहुत ही अच्छे पैसे कमा सकता है।

शेयर मार्केट की Basic जानकारी?

ऐसे हर व्यक्ति को Share Market Ki Jankari in Hindi में नॉलेज होनी चाहिए, जो शेयर मार्केट सीखना चाहता है या फिर वर्तमान में अथवा भविष्य में शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करना चाहता है।

Share Market Ki Jankari

शेयर मार्केट में तरह-तरह के म्यूचल फंड और अन्य चीजें होती है, जिनके बारे में व्यक्ति को पूरी इंफॉर्मेशन रखनी चाहिए।इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि शेयर मार्केट की ऐसी कौन सी महत्वपूर्ण बातें हैं, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए।

Share Market Ki Jankari 2023?

निचे दिए गये कुछ पॉइंट से हमें पता चल जायेगा की आखिर मैं Share Market Ki Jankari Kahan Se Milegi और यह जानकारी ले कर हम अछे तरीके से शेयर मार्किट में आपना पैसा को इन्वेस्ट कर सकते हैं।

#१. IPO क्या होता है?

शेयर मार्केट की जानकारी कैसे ले के बारे में अगर आप सोच रेहें हें तो यहाँ आपको पूरी जानकारी मिल जाएगा। मार्केट में ऐसी बहुत सारी कंपनी होती है, जो काफी प्रॉफिटेबल बिजनेस करती हैं और वह फायदे में चलती हैं।

ऐसे में जब कंपनी के मालिक को यह लगता है कि उन्हें अपने बिजनेस को बढ़ाने की आवश्यकता है और इसके लिए उन्हें ज्यादा फंड प्राप्त करने की जरूरत है तो फंड प्राप्त करने के लिए कंपनी के मालिक के पास दो रास्ते होते हैं या तो वह कर्ज ले ले या फिर अपनी कंपनी के शेयर को पब्लिक करके फंड इकट्ठा करें।

जब कोई कंपनी अपनी कंपनी के शेयर को पब्लिक करती है और फंड इकट्ठा करती है तो उसे ही आईपीओ कहा जाता है। आई पी ओ का फुल फॉर्म होता है Initial Public Offering है।

आईपीओ फर्स्ट पब्लिक Selling किसी भी कंपनी के शेयर की होती है। कंपनी के आईपीओ लाने के बाद जो भी व्यक्ति कंपनी के आईपीओ को खरीदता है, उसे कंपनी में कुछ हिस्सेदारी प्राप्त हो जाती है।

#२. आईपीओ के लिए अप्लाई कैसे करें?

बैंक के द्वारा या फिर ब्रोकर के द्वारा रिटेल इन्वेस्टर के तौर पर आप आईपीओ के लिए अप्लाई कर सकते हैं। ऐसे कई ब्रोकर हैं,जो आईपीओ में इन्वेस्टमेंट करने के लिए यूपीआई की सर्विस का यूज करते हैं, वहीं बैंकों के पास एप्लीकेशन के पैसे को इकट्ठा करने के लिए ब्लॉक अमाउंट की सर्विस उपलब्ध होती है।

इन दोनों ही मामलों में एप्लीकेशन अमाउंट को तब तक ब्लॉक कर के रखा जाता है,जब तक शेयर की रिलीजिंग को आखिरी रूप नहीं दिया जाता। कभी कबार जब एप्लीकेशन पूर्ण नहीं होता है या फिर वह खारिज हो जाता है तो बैंक कस्टमर को पूरे पैसे वापस कर देती हैं।

#३. क्या आईपीओ में इन्वेस्ट करने सही है?

शेयर बाजार के एक्सपर्ट की सलाह के अनुसार आईपीओ के अंदर इन्वेस्टमेंट करना रिस्क वाला काम है। क्योंकि आईपीओ के अंदर कंपनी के शेयरों की तरक्की से रिलेटेड कोई भी इंफॉर्मेशन या फिर तथ्य लोगों के पास नहीं होते हैं। जो आदमी शेयर मार्केट में पहली बार इन्वेस्ट करता है उसके लिए आईपीओ एक बेटर ऑप्शन हो सकता है।

#४. सेंसेक्स और निफ्टी क्या है?

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और बंबई स्टॉक एक्सचेंज एक स्टॉक एक्सचेंज है। यहां पर अलग-अलग प्रकार की कंपनी के शेयर की खरीदी बिक्री होती है और कंपनियों के शेयर की लिस्टिंग भी होती है और अगर सेंसेक्स और निफ़्टी के बारे में बात करें, तो यह मुंबई स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के मुख्य संकेतक होते हैं।

इनके द्वारा सेंटीमेंट जोकि शेयर मार्केट में होते हैं उसका पता चलता है।आपकी इंफॉर्मेशन के लिए यहां पर एक बात क्लियर कर दें कि निफ्टी और सेंसेक्स में उतार-चढ़ाव हर शेयर के उतार-चढ़ाव को नहीं दिखाता है। हां बस आप इससे यह जान सकते हैं कि मार्केट में क्या माहौल चल रहा है।

#५. बॉन्ड क्या है?

जब शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करने वाला व्यक्ति गवर्नमेंट को या फिर किसी कंपनी को एक लिमिट के लिए लोन देता है़, तो उसे बॉन्ड कहा जाता है। यह Daily इनकम की तरह ही होता है।

शेयर मार्केट के Bond में ब्याज की दर तय होती है।हालांकि कभी-कभी यह एक फार्मूले के बेस पर चेंज भी हो सकती है।Bond की खरीददारी करके आप उस व्यक्ति को उधार देते हैं, जिससे आपने बॉन्ड खरीदा है और वह व्यक्ति आपको बांड को बेचने के बदले में ब्याज देता है।

Bond का यूज करके म्युनिसिपल कॉरपोरेशन, सेंट्रल गवर्नमेंट, स्टेट गवर्नमेंट और अलग-अलग प्रकार की कंपनी अपनी योजना या फिर अपने प्रोजेक्ट के लिए फंड इकट्ठा करती हैं।

#6. बॉन्ड को हिंदी में क्या कहते हैं?

ऋण पत्र या फिर प्रतिभूति Bond को हिंदी में कहा जाता है। यह लोन से संबंधित गवर्नमेंट डॉक्यूमेंट होता है।

#७. बॉन्ड कितने प्रकार के होते हैं?

बॉन्ड टोटल चार प्रकार के होते हैं, जिनके नाम इस प्रकार हैं।

  • गवर्नमेंट बॉन्ड
  • म्युनिसिपल बॉन्ड
  • कॉरपोरेट बॉन्ड
  • हाई यील्ड बॉन्ड

#८. बॉन्ड और स्टॉक्स में क्या डिफरेंट है?

स्टॉक्स में शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने वाला व्यक्ति कंपनी की पार्टनरशिप में मालिक होता है, वही इन्वेस्टर के द्वारा बॉन्ड में लोन दिया जाता है।

नॉर्मली Bond में रिश्क कम होता है और फायदा भी कम होता है, वही स्टॉक में फायदा भी ज्यादा होता है परंतु रिश्क भी ज्यादा होता है।

साल 1929 से ही हर साल Bond में तकरीबन 6% का फायदा हो रहा है, वहीं साल 1929 से हर साल बॉन्ड में कम से कम 10 परसेंट का फायदा हो रहा है।

#९. Bond कैसे खरीदा जाता है?

बॉन्ड में इन्वेस्टमेंट करने के लिए आप अपने घर के आस-पास स्थित बैंक की ब्रांच से अप्लाई कर सकते हैं। जब आप बैंक से अप्लाई करते हैं, तो अप्लाई करने के कुछ दिन के बाद आपको बांड प्राप्त हो जाता है, जिसमें Bond के ऊपर आपका नाम भी प्रिंटेड होता है।

गोल्ड बॉन्ड की सेलिंग कौन करता है?

इंडिया की अन्य बैंक तथा इंडिया की रिजर्व बैंक गोल्ड बॉन्ड की सेलिंग करने का काम करती हैं।

गोल्ड बॉन्ड खरीदने के लिए कौन से डॉक्यूमेंट चाहिए?

गोल्ड बॉन्ड खरीदने के लिए व्यक्ति के पास आईडेंटिटी प्रूफ और एड्रेस प्रूफ होना जरूरी होता है।

ब्लू Bond क्या होता है?

यह भी लोन पाने का एक जरिया होता है, जो बिल्कुल ग्रीन बांड की तरह ही होता है। ब्लू बॉन्ड को विकासशील बैंक और गवर्नमेंट तथा दूसरे लोगों के द्वारा जारी किया जाता है। इस प्रकार के बांड का इस्तेमाल महासागर और समुद्र के ऊपर आधारित योजनाओं के लिए फंड इकट्ठा करने के लिए किया जाता है।

निष्कर्ष

आशा है, शेयर मार्केट की जानकारी के संबधित सबकुछ समझ गई होगी। और शेयर मार्केट की जानकारी कैसे प्राप्त करें को समझने की यह जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी। अगर लेख पसंद आया है तो अन्य लोगों के साथ भी सांझा करें।